Sunday, 2 October 2016

होठो पे सिगरेट और सीने में दिल सुलगता है रात भर,
सोचता हूँ किसी दिन इस धुँए के साथ ग़म भी उड़ जाएंगे....असीम..

No comments:

Post a Comment