Sunday, 2 October 2016

बरसात की बूंदो में आंसू तो छुपा लेता हूँ अपने,
आँखों की लाली छुपाने का कोई तरीका तो बता....असीम...

No comments:

Post a Comment