Monday, 3 October 2016

इन लम्हो की क्या बात करूँ जो कटते हैं अरसे जैसे,
वो अरसे ना जाने कहाँ गए जो कटते थे लम्हो जैसे....असीम

No comments:

Post a Comment