Saturday, 1 October 2016

सोये लफ्ज़

हर रात की तरह, मै जागा था कल रात भी
मगर लफ्ज़ सोये थे,इसीलिये कुछ लिख न सका...असीम...

No comments:

Post a Comment