Sunday, 2 October 2016

दिल मुझे मेरा अब पत्थर सा लगने लगा है,
सोचता हूँ तराश के इसे तेरी मूरत बना लूँ.... असीम...

No comments:

Post a Comment