Sunday, 2 October 2016

तुम खुश होकर भी आँखों में नमी रखते हो,
मै गम में रहकर भी चेहरे पे हंसी रखता हूँ, 
तुम्हारे बारे में किसकी क्या राय है नहीं मालूम,
पर लोग कहते हैं, मै पहले से बेहतर दिखता हूँ.... असीम...

No comments:

Post a Comment