Sunday, 2 October 2016

हसीन पल

इस लंबी सुनसान ज़िन्दगी से बेहतर,
मैं चाहता हूँ मौत के वो दो हसीन पल
जो तेरी बहो में गुज़रे.... असीम...

No comments:

Post a Comment