Sunday, 2 October 2016

हिचकियों के लिये कोई पुख्ता ईलाज ढूंढ ले तू ही,
तुझे याद करने का, मेरा रोग तो लाइलाज है.... असीम....

No comments:

Post a Comment