Monday, 3 October 2016

हम दोनों पर एक दूसरे की यादों का सामान तो बहुत है,
बस फ़र्क ये है कि तेरा बासी हो गया और मेरा अब भी ताज़ा है... असीम..

No comments:

Post a Comment