Tuesday, 11 October 2016

लोग सोते हैं कुछ अच्छे ख्वाब देखने को,
और मैं रातो को जागकर ख्वाबो का शहर ढूंढता हूँ... अमित असीम..

No comments:

Post a Comment